भोपाल। जल्द ही वन विहार नेशनल पार्क में पर्यटक के लिए स्नेक पार्क बनाया जाएगा। इसका निर्माण अहमदाबाद जू में बने स्नेक पार्क की तर्ज पर होगा। इसके लिए प्रबंधन ने तैयारियां शुरू कर दी है। संभावना है कि अगले दो महीने के भीतर स्नेक पार्क बनाने का काम शुरू हो जाएगा। प्रबंधन के अधिकारियों का कहना है कि स्नेक पार्क बनाने के लिए सर्प आकृति का डिजाइन तैयार करवाया जाएगा, जिसमें मुंह की तरह से व्यक्ति प्रवेश करेगा और पूछ की तरह से पार्क से बाहर निकलेगा। पार्क में करीब 20 चैंबर बनाए जाएंगे, जिसमें करीब पार्क में 400 प्रजाति के रेप्टाइल (रेंगने वाले) इनमें करीब तीन सौ से ज्यादा सांपों की प्रजातियां रखी जाएंगी और करीब 50 से ज्यादा प्रजाति के सांपों को अलग- अलग चैंबरों में रखा जाएगा। पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ नरेंद्र कुमार का कहना है कि स्नेक पार्क निर्माण के लिए डिजाइन तैयार कराई जा रही है। इसकी डिजाइन तैयार होने के बाद ही इसका निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।


एक करोड़ से बनेगा पार्क

स्नेक पार्क आधा एकड़ क्षेत्र में बनाया जाएगा। इस पर एक करोड़ खर्च होने का अनुमान है। इसके लिए इस्टीमेट तैयार करवाया जाएगा। पार्क में 20 चैंबर बनाए जाएंगे। अहमदाबाद में स्नेक पार्क को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि ताकि वहां देश के विभिन्न क्लाइमेट में रहने वाले सांप और रेंगने वाले अन्य जीव-जंतु सहजता से रह सकें। एक ही छत के नीचे सांपों की कई प्रजाति अहमदाबाद जू में देखी जा सकती है। इसेदेखते हुए स्नेक पार्क का बनाया जाएगा।

देश में सिर्फ दो जगह ऐसे पार्क

पीसीसीएफ वाइल्ड लाइफ कुमार ने बताया कि देश में केवल दो जगह इस तरह के स्नेक पार्क है। एक अहमदाबाद में और दूसरा चैन्नई में है। यह तीसरा स्नेक पार्क होगा, जो इतने बड़े क्षेत्र में बनाया जाएगा, जिसमें करीब 300 से ज्यादा प्रजातियों के सांपों को रखा जाना है। अभी नेशनल पार्क में15 प्रजाति के सांप हैं।

पांच से 10 रुपए लगेगा शुल्क


अहमदाबाद जू में बने स्नेक पार्क की तर्ज पर बनाए जा रहे स्नेक पार्क में अनुमानित शुल्क करीब पांच से 10 रुपए प्रति व्यक्ति रखा जाएगा। इसके लिए पार्क के प्रवेश द्वारा पर एक काउंटर बनाया जाएगा। जहां से व्यक्ति स्नेक पार्क में जाने के लिए टिकट प्राप्त कर सकेंगे। पार्क को पूरी तरह से वातानुकूलित बनाया जाएगा। ताकि संपों और आने वाले व्यक्ति को यहां पर गर्मी का अहसास हो।

Source: Peoples Samachar (Dated 02 Oct 2014)