भोपाल। प्रदेश का वन महकमा भोपाल के बाद अब प्रदेश के अन्य टाईगर रिजर्व और नेशनल पार्कों में - सर्विलांस की स्थापना करेगा इसके तहत सैटेलाइट इलेक्ट्रॉनिक आई के जरिए 24 घंटे बाघों और शिकारियों की निगरानी की जाएगी। प्रदेश में पिछले कुछ सालों में बाघों का शिकार और बढ़ती मृत्यु दर चिंता का विषय रही है। इसके लिए भारत सरकार ने सर्विलांस का प्रोजेक्ट बनाया है। भोपाल के बाद वन विभाग इसे प्रदेश के अन्य नेशनल पार्क और टाईगर रिजर्व में सर्विलांस की स्थापना करेगा।

 

भोपाल में अगले महीने से

भोपाल में सर्विलांस अगले महीने शुरू हो जाएगा। कैमरे ऊंचे टॉवरों पर लगाए जाएंगे जो 20 किग्रा से ज्यादा वजन वाली किसी भी आकृति के तीन से पांच किमी के रेंज में आने या अभयारण्य की सीमा लांघने पर चेतावनी जारी किया करेंगे।

4 करोड़ रुपए होंगे खर्च

प्रोजेक्ट पर करीब 4 करोड़ का खर्च आएगा। सैटेलाइट से बाघों की निगरानी करने के मामले में मप्र देश का दूसरा राज्य होगा। फिलहाल यह व्यवस्था अभी जिम कार्बेट पार्क में लागू है।

कैमरे की दिशा भी बदल सकेंगे

पीसीसीएफ नरेंद्र कुमार ने बताया कि सर्विलांस वाइल्ड लाइफ ट्रैकिंग सिस्टम में पांच कैमरों का उपयोग किया जाएगा। कर्मचारी कंट्रोल रूम में बैठकर ही रिमोट कंट्रोल से कैमरे की दिशा बदल सकते हैं।


Source: Peoples Samachar (Dated 11 May 2014)